पृष्ठ

मंगलवार, जून 28, 2011

मलीहाबादी आमों की बहार ...

मलीहाबाद में आमों की सब से अधिक किस्में पैदा करके 
पद्मश्री हाजी कलीमुल्लाह खान साहब 
 (Grafting expert and Padmashree horticulturist Haji Kaleemullah Khan) 
ने ऐतिहासिक काम किया है......


मलीहाबादी आमों की बहार देखने के लिए कृपया क्लिक करें -


video


मेरे इस वीडियो को You Tube पर भी देखा जा सकता है -


                        

33 टिप्‍पणियां:

  1. आमों के मौसम में यह विडियो अच्छा लगा ...शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके टलेंट का एक और नमूना। इतिहास, साहित्य, और अब ये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत चित्र कथा ;):) डायरेक्टर , प्रोड्यूसर और फोटोग्राफर सब एक साथ ... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. शरद सिंह जी! पोस्ट अच्छा है...दिलचस्प है. आप इसके लिए बधाई की पात्र हैं. लेकिन यह तो वर्तमान है...इतिहास का आइना नहीं. इस पोस्ट को किसी दूसरे ब्लॉग पर लगा सकती थीं. आपके पास तो कई ब्लॉग हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाह ,इतना टैलेंट आपमें.इस टैलेंट कि तो अलग से दाद देता हूँ .ग़ज़ब का विडिओ .लीजिये आप मलिहाबादी आम के बागों में घूम आयीं और मैं आपके ब्लॉग तक घूम आया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सतीश सक्सेना जी,
    यह जानकर मन प्रसन्न हो गया कि आपको आमों की बहार पसंद आई.
    विचारों से अवगत कराने हेतु हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मनोज कुमार जी,
    उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए हार्दिक धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  8. संगीता स्वरुप जी,
    यह जानकर मन खुश हो गया कि आपको आमों की बहार पसंद आई.
    उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. देवेन्द्र गौतम जी,
    आपकी सुधी टिप्पणी के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ...
    मैंने सोचा कि आदरणीय पद्मश्री हाजी कलीमुल्लाह खान साहब living legend हैं और देश के horticulture उनका काम living historical work है, यूं भी वे इतिहास रच चुके हैं...इसलिए अपने इस ब्लॉग में उनके योगदान से जुड़े अपने इस वीडियो को प्रस्तुत किया.
    उत्साहवर्द्धन के लिए पुनः आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुंवर कुसुमेश जी,
    मेरे ब्लॉग तक भ्रमण के लिए हार्दिक धन्यवाद...
    यह जानकर मन प्रसन्न हो गया कि आपको आमों की बहार पसंद आई.
    उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. देख बहारें आमो की
    हमने इस साल आम्रपाली आम का स्वाद लिया.
    बढ़िया पोस्ट
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. हाजी साहब को उनकी उपलब्धि पर बहुत बहुत बधाई.
    लाजवाब आमों की इतनी मीठी सुहानी बहार देख कर मन बाग़-बाग़ हो गया.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ललित शर्मा जी,
    यह जानकर मन खुश हो गया कि आपको आमों की बहार पसंद आई.
    उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  14. अल्पना वर्मा जी,
    आमों की बहार आपको पसंद आई यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है.
    आपकी आत्मीय टिपण्णी के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  15. आमों की यह जानकारी देने हेतु आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  16. आम की बात और ऐसी प्रस्‍तुति, वाह.

    उत्तर देंहटाएं
  17. सवाई सिंह जी,
    आमों की बहार को पसन्द करने के लिए हार्दिक धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  18. राहुल सिंह जी,
    यह जानकर मन प्रसन्न हो गया कि आपको आमों की बहार पसंद आई.
    उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर... सच कहूं इधर दिल्ली कई बार लखनऊ जाना भी हुआ, लेकिन इतनी भाग दौड़ रही आम से दूर ही रहा।
    पर आम की इस कमी को आपकी पोस्ट ने कुछ हद तक पूरा कर दिया।
    बहुत अच्छा

    उत्तर देंहटाएं
  20. आमों की बहार देख कर मन ललचा गया । बाहर जो आये हैं य़हां आम कहाँ । सुंदर फोटोग्राफी । यदि किस्मों के नाम ङी लिखे होते तो ज्यादा मजा आता ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    आमों की बहार को पसन्द करने के लिए हार्दिक धन्यवाद...
    अब जब भी लखनऊ जाएं मलीहाबादी आमों का स्वाद जरूर लें.

    उत्तर देंहटाएं
  22. आशा जोगलेकर जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार...
    स्वदेश वापसी पर मलीहाबादी आमों का आनन्द लिया जा सकता है...फिलहाल वहां के फलों का आनन्द लीजिए.

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत रोचक लगा यह सब.
    --------------
    कल 12/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  24. हाजी कलि -मुल्ला खान साहब के काम को आपने अपनी प्रतिभा की रोशनी दी अच्छा लगा .आपको और डॉ .वर्षा सिंह जी को ढेरों बधाइयां .निर्माता निर्देशक का यह किरदार भी काम पर आपकी छाप लिए था .शुक्रिया इसे सांझा करने के लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  25. यशवन्त माथुर जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको आमों की बहार पसंद आई. आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  26. वीरूभाई जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  27. डॉ .वर्षा सिंह जी को ढेरों बधाइयां. आमों की बहार देख कर मन बाग़-बाग़ हो गया.

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुधीर जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  29. उनके बाग़ में बैठकर आम खा चुका हूँ। मलीहाबाद का हापुस भी। यहाँ उनके बारे में पढकर अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  30. Anurag Sharma ji,
    Really, You are so lucky !
    Thanks for visit my 'Mlihabadi Aamon Ki Bahar'.

    उत्तर देंहटाएं
  31. ऐतिहासिक काम ...शुभकामनायें एवं हार्दिक आभार ... खान साहब!
    पद्मश्री हाजी कलीमुल्लाह खान साहब - आम की नई किस्म 'नमो आम'
    मलीहाबाद में आमों की सब से अधिक किस्में पैदा करके पद्मश्री हाजी कलीमुल्लाह खान साहब ने ऐतिहासिक काम किया है......लखनऊ के मलिहाबाद में हाजी कलिमुल्ला खान ने आम की नई किस्म को 'नमो आम' का नाम दिया। उन्होंने यह आम भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्पित किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  32. ऐतिहासिक काम ...शुभकामनायें एवं हार्दिक आभार ... खान साहब!
    पद्मश्री हाजी कलीमुल्लाह खान साहब - आम की नई किस्म 'नमो आम'
    मलीहाबाद में आमों की सब से अधिक किस्में पैदा करके पद्मश्री हाजी कलीमुल्लाह खान साहब ने ऐतिहासिक काम किया है......लखनऊ के मलिहाबाद में हाजी कलिमुल्ला खान ने आम की नई किस्म को 'नमो आम' का नाम दिया। उन्होंने यह आम भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्पित किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  33. ऐतिहासिक काम ...शुभकामनायें एवं हार्दिक आभार ... खान साहब!
    पद्मश्री हाजी कलीमुल्लाह खान साहब - आम की नई किस्म 'नमो आम'
    मलीहाबाद में आमों की सब से अधिक किस्में पैदा करके पद्मश्री हाजी कलीमुल्लाह खान साहब ने ऐतिहासिक काम किया है......लखनऊ के मलिहाबाद में हाजी कलिमुल्ला खान ने आम की नई किस्म को 'नमो आम' का नाम दिया। उन्होंने यह आम भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्पित किया है।

    उत्तर देंहटाएं