पृष्ठ

शुक्रवार, नवंबर 26, 2010

खजुराहो की नदी देवियां

- डॉ. शरद सिंह
         गंगा, यमुना और सरस्वती नदियों को मानवाकृति में प्रदर्शित करने की परम्परा गुप्त काल में फूली- फली। आरम्भ में द्वार के दोनों ओर मकर वाहिनी गंगा की मूर्ति एक ही रूप में बनाई जाती थी  गंगा की मूर्ति की बनावट में विशेषता यह रहती थी कि गंगा फलयुक्त आम्रवक्ष की डाली पकड़े हुए अपने एक हाथ में घट लिये दिखाई दी जाती थी। कालान्तर में द्वार के दोनों ओर मकरवाहिनी गंगा और कूर्मवाहिनी यमुना अंकित की जाने लगी। इसके उदाहरण गुप्तकाल के अनेक मंदिरों के द्वार पर उत्खचित है। वस्तुतः आरम्भ में इस प्रकार की नदी देवियों की मूर्तियों प्रायः ही बनाई जाती थीं किन्तु चंदेल काल तक देवताओं के मंदिर प्रवेश द्वारों पर नदी देवियों को उकेरा जाने लगा।
    खजुराहो में ब्रह्मा मंदिर के प्रवेश द्वार-शाखाओं के नीचे एक ओर गंगा और दूसरी ओर यमुना का चित्रण है। इसके अतिरिक्त प्रवेश द्वार में और कोई चित्रण नहीं है।
    जगदम्बा मंदिर तथा चित्रागुप्त मंदिरों में भी मकर वाहिनी नदी देवी गंगा की एक-एक मूर्ति प्रदर्शित है।  
     सरस्वती को वीणा बजाते हुए प्रदर्शित किया गया है।
    कन्दरिया महादेव मंदिर के गर्भगृह द्वार पर अंकित सप्त-शाखाओं के नीचे एक ओर मकरवाहिनी गंगा तथा दूसरी कूर्मवाहिनी यमुना की मूर्तियां हैं। इसी प्रकार विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह द्वार पर भी द्वार शाखाओं के नीचे वाहन सहित गंगा और यमुना अंकित हैं।
    मकर वाहिनी गंगा और कूर्मवाहिनी यमुना द्विभुजी हैं। गंगा के हाथों में चंवर तथा कमल और यमुना के हाथों में चंवर तथा नीलोत्पल प्रदर्शित हैं। गंगा और यमुना दोनों ही कर्णाभूषण, हार, गै्रयेवक, बाजूबंद, करधनी तथा पैंजनी से अलंकृत हैं।
     
    वाराह मंदिर की मुख्य प्रतिमा में वाराह के विशालकाय शरीर पर भी गंगा यमुना उत्खचित हैं।

19 टिप्‍पणियां:

  1. संगीता स्वरुप जी, आप जैसी प्रबुद्ध लेखिका की राय मेरे लिए महत्वपूर्ण है। हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनोज कुमार जी, मेरे ब्लॉग से जुड़ने के लिए हार्दिक धन्यवाद!आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उफ़्फ़!
    मेरे पहुंचने से पहले आपका यह स्वागत ....
    बहुत छुटपन में गया था खजुराहो, शाय्द १५-१७ के बीच कभी।
    आपके आलेखों से एक नई दृष्टि मिलेगी। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मकरवाहिनी गंगा?
    बड़ी तेजी से मंगर और घड़ियाल खत्म हुये हैं। पिछली साल मुझे स्वीट वाटर डॉल्फिन (सोइस) का आभास हुआ था गंगा में। पर बहुत जल्दी में ही गंगा और यमुना इंटेंसिव केयर यूनिट में चली गई हैं।
    अच्छा है आपका यह ब्लॉग और बहुत सम्भावनाये हैं इसके एक निशे ब्लॉग बनने में। पर चार ब्लॉग मैनेज करना और इस ब्लॉग पर तीन महीने में कुल 6 पोस्टें - वही गड़बड़ है!

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रभावित हुआ यहाँ आकर , भविष्य में पढने के लिए आज से फालो कर रहा हूँ ! हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. ज्ञानदत्त पाण्डेय जी,हार्दिक धन्यवाद!आपका स्वागत है। आपकी चिन्ता वाज़िब है। आप जैसे प्रबुद्ध लेखक की राय मेरे लिए महत्वपूर्ण है। हमने संस्कृति और पर्यावरण के क्षेत्र में विगत में बहुत कुछ खोया है किन्तु अब हमें शेष को बचाने के लिए जनचेतना की आवश्यकता है। सही कहा न मैंने?

    उत्तर देंहटाएं
  7. सतीश सक्सेना जी, मेरे ब्लॉग से जुड़ने और प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद! आपका स्वागत है। सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. पहली बार यहाँ आना हुआ. बड़ी प्रसन्नता हुई.मैं अकेला नहीं हूँ (पगला!). अच्छी जानकारी भी आलेख में है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. पी एन सुब्रमनियन जी, मेरे ब्लॉग पर आने और प्रशंसा के लिए हार्दिक धन्यवाद! आपका स्वागत है। सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. शिल्‍प के साथ कला शैली का उल्‍लेख तो जरूरी है, जैसा आपने किया है, लेकिन काल भी लिखते चलें तो अधिक उपयोगी होगा. गंगा-यमुना की शिल्‍प परम्‍परा को यक्षी-शालभंजिका (सांची का तोरण याद कीजिए) से जोड़ कर देखा जाता है. गुप्‍त काल के अच्‍छे उदाहरण उदयगिरि, विदिशा में है. खरौद, छत्‍तीसगढ़ के इन्‍दल देउल (7-8 वीं सदी ई.) की गंगा-यमुना, इस मायने में विशिष्‍ट है कि यह अकेला ऐसा उदाहरण है, जिसमें पूरे द्वार शाख आकार की ऐसी प्रतिमाएं हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. राहुल सिंह जी ,आपका सुझाव अच्छा है। हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. You have a nice space. I think there is lot for me here, to read. I loved reading about 'you' also. See you.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपके ब्लाग पर आकर बहुत अच्छा लगा .अपनी संस्कृति और परंपराओं की समझ के साथ प्राचीन इतिहास से जुड़ने का संयोग
    मिला है हम सबको -इस सबसे जुड़ कर इस भीड़ में अपनी पहचान पाने का सुख मिलता है .आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रतिभा जी, अपने ब्लॉग पर आपको पा कर सुखद लगा। आपने ठीक लिखा है, अपनी संस्कृति और परंपराओं की समझ के लिए प्राचीन इतिहास से जुड़ना जरूरी है...मैं भी यही मानती हूं। इसी तरह सम्वाद बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. chitra Ji,
    Thanks for coming. You always welcome in my Blog. I think we should have proud on our culture and heritage. We have a wealthy history since from Prehistoric age. So we should protect it in any how.

    उत्तर देंहटाएं
  16. bahut acha laga apke blog pe aakar, bahut kuch padne ko mila jo meri knowledge mein nahi tha.. shukriya..

    www.lyrics-mantra.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. धन्यवाद हरमन जी। मेरे ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर ज्ञानवर्धक आलेख......

    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं